Divine

नदी में उभरा 500 साल पुराना मंदिर, जानिये की क्या है इसकी कहानी

नदी में उभरा  500 साल पुराना मंदिर, जानिये  की क्या है इसकी कहानी

नई दिल्ली: ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर के नयागढ़ स्थित महानदी में अचानक 500 साल पुराना मंदिर दिखाई दिया है. यह मंदिर अपने-आप ही नदी में उभरकर ऊपर आ गया है. इसे गोपीनाथ का अति प्राचीन मंदिर बताया जा रहा है. इसको देखने के लिए लोगों की भीड़ लग गई. दरअसल, इंडियन नेशनल ट्रस्ट फॉर आर्ट एंड कल्चरल हेरिटेज (INTACH) की महानदी वैली हेरिटेज साइट्स डॉक्यूमेंटेशन के एक प्रोजेक्ट के दौरान यह घटना सामने आई है. 

STFnews
इस प्रोजेक्ट के असिस्टेंट दीपक कुमार नायक ने इसके बारे में अपने फेसबुक पर विस्तार से बताया है. उन्होंने इससे जुड़ी तस्वीरें भी साझा की हैं.दीपक कुमार नायक ऐतिहासिक धरोहरों के बारे में रुचि रखने वाले रवीन्द्र कुमार की मदद से इस साइट का मुआयना किया और बताया कि इस जगह पर गोपीनाथ मंदिर भगवान श्रीकृष्ण का ही मंदिर था. उधर इस खबर के सामने आते ही अब इस जगह को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ रही है. कुछ लोगों ने यह बताया कि पहले इस जगह पर पद्मावती गांव था. यह पद्मावती गांव का मंदिर है.दीपक कुमार नायक ने अपने खोज के माध्यम से बताया कि अतीत में पद्मवती गांव सतपतना का हिस्सा था, अर्थात 7 गांव का गठजोड़. लेकिन 19वीं शताब्दी में एक बाढ़ के कारण धीरे-धीरे पद्मावती गांव ने गहरे जल में समाधि ले ली. इसके बाद यहां के लोग ऊंचे स्थानों पर जा बसे. हालांकि बहुत से लोगों ने उसके चारों ओर अपना डेरा जमाए रखा और वो अंत तक वहीं पर बसे रहे. स्थानीय लोगों का यह भी कहना है कि प्राचीन काल में उस जगह करीब 22 मंदिर थे. अकेला यही गोपीनाथ मंदिर का कुछ भाग ही पानी का स्तर कम होने पर इसलिए दिखाई देता था, क्योंकि यह उस समय का सबसे बड़ा मंदिर था.

STFnews
दीपक कुमार नायक ने यह भी लिखा कि कई बार वहां जाने के बावजूद विभिन्न कारणों से हम इसकी खोज नहीं कर पाए. लेकिन 7 जून को अचानक उनके मित्र राणा ने उन्हें बताया कि मंदिर का ऊपरी भाग अब नदी में कुछ दिनों से दिखने लगा है. इसके बाद दीपक वहां पहुंचे और उन्होंने यह सब देखा और कैमरे में कैद किया. हालांकि इसके लिए उन्हें नाव तक का भी सहारा लेना पड़ा. अपने फेसबुक पोस्ट में दीपक लिखते हैं कि गोपीनाथ मंदिर को बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाला पत्थर वही लग रहा है जिनका प्रयोग 15वीं और 16वीं शताब्दी में मंदिरों को बनाने के लिए किया जाता था. इसके अलावा वे उन जगहों पर गए जहां गोपीनाथ की पूजा की जाती है. महानदी प्रोजेक्ट के प्रमुख अनिल धीर ने बताया कि इंडियन नेशनल ट्रस्ट फार आर्ट एण्ड कल्चरल हेरिटेज (इनटाक) की तरफ से डॉक्यूमेंटेशन ऑफ दि हेरिटेज आफ दि महानदी रिवर वैली प्रोजेक्ट शुरू किया गया है. छत्तीसगढ़ से महानदी के निकलने वाले स्थान से जगतसिंहपुर जिले के पारादीप तक 1700 किमी. (दोनों तरफ) के किनारे से 5 से 7 किमी. के बीच सभी पुरानी कृतियों की पहचान और रिकार्डिंग की जा रही है; फरवरी में इसकी सूची प्रकाशित की जाएगी.

Comments

Leave a comment