Political

सचिन पायलट की खुली बगावत, खतरे में अशोक गहलोत की सरकार

सचिन पायलट की खुली बगावत, खतरे में अशोक गहलोत की सरकार

पायलट खेमे के विधायक दे सकते हैं इस्तीफा, कहा निर्दलीय विधायक भी मेरे साथ

नई दिल्ली: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच चल रहा मतभेद अब खुलकर सामने आ गया है. सचिन पायलट ने यहां तक कह डाला कि गहलोत सरकार अल्पमत में हैं. उन्होंने कहा कि वह जयपुर नहीं आ रहे हैं. वह कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल होंगे. विधायक दल की यह बैठक सोमवार सुबह 10.30 बजे होनी है.

संकट में है राजस्थान सरकार
उधर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच मतभेद के कारण सरकार पर खतरा मंडराने लगा है. राज्य में बिगड़ते सियासी हालात को देखते हुए कांग्रेस की आलाकमान ने पार्टी के तीन नेताओं को जयपुर भेजने का फैसला किया है. वहीं, सूबे के मुख्यमंत्री रविवार रात पार्टी के विधायकों और मंत्रियों के साथ बैठक करने वाले हैं. वहीं सूत्रों के मुताबकि यह खबर भी आ रही है कि कल सुबह होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले आज देर रात सचिन पायलट के खेमे के विधायक अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को भेज सकते हैं. हालांकि पायलट की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से भी मुलाकात नहीं हुई है. सचिन पालयट ने बगावती तेवर अपना लिया है. उन्होंने कहा कि है कि कई निर्दलीय विधायक हमारे साथ हैं. बताया जा रहा है कि सचिन पायलट समेत 27 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. इधर, गहलोत खेमे ने 100 से अधिक विधायकों के समर्थन का दावा किया है. वहीं, बीजेपी की ओर से कहा जा रहा है कि वो सचिन पायलट के संपर्क में नहीं है. ये कांग्रेस का आंतरिक मामला है.

पायलट के करीबी 3 विघायक गहलोत के साथ
इससे पहले सचिन पायलट के दोस्त दानिश अबरार, चेतन डूडी और रोहित बोहरा मुख्यमंत्री निवास पहुंचे थे. यहां आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में तीनों विधायकों ने कहा था कि हमारी आस्था मुख्यमंत्री अशोक गहलोत में है. हम लोग दिल्ली अपने व्यक्तिगत काम से गए थे. तीनों ने कहा कि सचिन पायलट से पिछले दो दिनों में हमारी कोई बातचीत नहीं हुई है. इसे अशोक गहलोत की एक बड़ी सफलता माना जा रहा है क्योंकि यह तीनों विधायक सचिन पायलट के दोस्त हैं.

इसलिए गहलोत से नाराज हुए पायलट
विधायकों की खरीद फरोख्त मामले में राजस्थान पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) की तरफ से डिप्टी सीएम सचिन पायलट को नोटिस भेजे जाने को लेकर उनके खेमे में नाराजगी है. हालांकि इस मसले को लेकर सीएम गहलोत ने सफाई दे दी थी. सीएम ने ट्वीट करके कहा था, 'एसओजी को जो कांग्रेस विधायक दल ने बीजेपी नेताओं द्वारा खरीद-फरोख्त की शिकायत की थी उस संदर्भ में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, चीफ व्हिप, अन्य कुछ मंत्री व विधायकों को सामान्य बयान देने के लिए नोटिस आए हैं. कुछ मीडिया द्वारा उसको अलग ढंग से प्रस्तुत करना उचित नहीं है.


 

Comments

Leave a comment